HomeBiharNOU: नालंदा खुला विश्वविद्यालय को मान्यता...

NOU: नालंदा खुला विश्वविद्यालय को मान्यता नहीं मिली तो पढ़ाई होगी बंद, नए सत्र के नामांकन पर संकट के बदल मंडरा रहे, जाने क्या है पूरा मामला

NOU PATNA: राज्य के विश्वविद्यालयों में दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से पढ़ाई पहले से ही बंद है और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने सभी की मान्यता समाप्त कर दी है।

अब नालंदा खुला विश्वविद्यालय (Nalanda Open University) राज्य का एकलौता है शिक्षा जहां से दूरस्थ पढ़ाई होती है और नए सत्र 2023-24 के लिए विश्वविद्यालय को अभी तक मान्यता नहीं मिली है.

________________________
बिहार की सभी लेटेस्ट रोजगार समाचार और स्कॉलरशिप से अपडेटेड रहने के लिए इस ग्रुप में अभी जुड़े. (अगर आप टेलिग्राम नहीं चलाते हैं तो फेसबुक को फॉलो करें, ताकि बिहार की कोई नौकरी नोटिफिकेशन न छूटे)

Whatsapp GroupJoin Now
Follow FacebookJoin & Follow
Telegram GroupJoin Now

नए सत्र में नामांकन पर संकट के बदल मंडरा रहे

इस वजह से नए सत्र में नामांकन पर संकट के बदल मंडरा रहे है और विवि में Undergraduate, Postgraduate सहित तमाम कोर्सों को मिलाकर कुल छात्रों की संख्या 54 हजार से अधिक है।

एक भी विश्वविद्यालय को नैक से ए ग्रेड प्राप्त नहीं:

दूरस्थ शिक्षा के माध्यम से पढ़ाई बंद होने से राज्य के 2 लाख से अधिक छात्रों का नामांकन नहीं हो पा रहा है.

यूजीसी के नियमानुसार अब वही विश्वविद्यालय Distance Mode में पढ़ाई करा सकते है जिन्हें NAAC से A Grade प्राप्त है और वर्तमान समय में राज्य के एक भी विश्वविद्यालय को A ग्रेड प्राप्त नहीं है।

पीयू को सिर्फ एक सत्र में नामांकन का दिया गया था मौका:

ललित नारायण मिथिला यूनिवर्सिटी, दरभंगा (LMNU) में करीब 35 से 40 हजार छात्रों का नामांकन UG, PG सहित कई Vocational स्तरीय अलग-अलग कोर्सों में Distance Mode से होता था।

बीआरए अम्बेडकर विश्वविद्यालय, मुजफ्फरपुर (BRABU) में भी UG, PG और कुछ Self Finance Course की पढ़ाई होती थी।

मगध विश्वविद्यालय (MU) में डिस्टेंस मोड से पढाई बंद है और यहां पर B.Ed से लेकर B.LIB, M.LIB, MJMC और M.A In Education की पढ़ाई होती थी.

इधर, PU को Bureau Of Distance Education ने सिर्फ एक्सटेंशन के तौर पर एक सत्र में नामांकन का मौका दिया था और वह भी समाप्त हो गया है, यहां भी नामांकन बंद है।

कुलपति प्रो. केसी सिन्हा ने कहा:

विश्वविद्यालय की आगे की मान्यता के लिए Distance Education Bureau को पत्र भेजा गया है और विश्वविद्यालय को अगले सत्र के लिए मान्यता नहीं मिली है.

उम्मीद है कि जल्द निर्णय होगा और UGC से मान्यता के लिए कई बार अधिकारी से बात हो चुकी है और विश्वविद्यालय में कुल मिलाकर 54 हजार विद्यार्थी अभी पढ़ाई कर रहे हैं।

________________________
सभी लेटेस्ट Sarkari Naukri अपडेट व अन्य News जानने के लिए इस व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े.

Whatsapp GroupJoin Now

Related Article

Most Popular

Sarkari Naukri

Astrology

Sarkari Yojana

Life Style

error: Copyright © 2022 All Rights Reserved.