HomeNaukriNavodaya Vidyalaya Sangathan Jobs: नवोदय विद्यालयों...

Navodaya Vidyalaya Sangathan Jobs: नवोदय विद्यालयों में 5 हजार नौकरियों की घोषणा, उम्मीदवार हो जाएं तैयार

Navodaya Vidyalaya Sangathan Jobs: मोदी सरकार के 1.5 साल में 10 लाख सरकारी नौकरियां देने के लक्ष्य की पूर्ति को लेकर Central Government के सभी मंत्रालय और उनसे जुड़े संगठन अपने स्तर पर मुहिम छेड़े हुए है।

इस बीच Ministry of Education से जुड़े नवोदय विद्यालय संगठन (NVS) ने भी अगले 4 महीनों में करीब 5 हजार नौकरियों को देने का ऐलान किया है.

________________________
बिहार की सभी लेटेस्ट रोजगार समाचार और स्कॉलरशिप से अपडेटेड रहने के लिए इस ग्रुप में अभी जुड़े. (अगर आप टेलिग्राम नहीं चलाते हैं तो फेसबुक को फॉलो करें, ताकि बिहार की कोई नौकरी नोटिफिकेशन न छूटे)

Whatsapp GroupJoin Now
Follow FacebookJoin & Follow
Telegram GroupJoin Now

यह सभी पद Teaching और Non Teaching दोनों ही श्रेणी के होंगे. मौजूदा समय में देश में करीब 700 Residential Navodaya Vidyalaya है जिनका संचालन यह संगठन करता है।

शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक इन पदों में कुछ तो Promotion के बाद से लंबे समय से खाली पड़े थे, जबकि कुछ नए पद सृजित किए गए है।

इन सभी पदों को भरने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है और फरवरी 2023 तक इन्हें भरने का काम पूरा हो जाएगा.

वहीं संगठन के मुताबिक खाली पदों को भरने से उसके विद्यालयों में शैक्षणिक सुधार भी देखने को मिलेगा साथ ही छात्र – शिक्षक अनुपात की पूर्ति होगी।

वैसे भी नई National Education Policy (NEP) की सिफारिश के बाद शिक्षकों के खाली पदों को भरने का दबाव है।

शुरुआत नवोदय और केंद्रीय विद्यालयों से:

एनईपी से जुड़ी सिफारिशों पर अमल की शुरुआत Navodaya और Kendriya Vidyalaya (KV) से ही हो रही है क्योंकि ये विद्यालय सभी राज्यों में मौजूद है।

मोदी सरकार के डेढ़ साल में 10 लाख सरकारी नौकरियां देने के लक्ष्य को पूरा करने को लेकर केंद्र सरकार के सभी मंत्रालय और उनसे जुड़े संगठन अपने स्तर पर मुहिम छेड़े हुए है और इसी कड़ी में यह बदलाव हो रहा है।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति के पालन लिए यह होगा:

एनईपी के प्रभावी अमल के लिए शिक्षकों के खाली पदों या फिर उस अनुपात को पूरा करने को आवश्यक माना गया है जो मौजूदा छात्रों की संख्या के लिए जरूरी है.

एनईपी को इनके जरिये लागू किया जाना है, ऐसे में यदि स्कूलों में शिक्षक ही नहीं होंगे या फिर उनकी संख्या अगर कम होगी तो इसे बेहतर तरीके से जमीन पर नहीं उतारा जा सकता है।

Related Article

Most Popular

Sarkari Naukri

Astrology

Sarkari Yojana

Life Style

error: Copyright © 2022 All Rights Reserved.