HomeIndiaPetrol Diesel Price: सस्ता होगा पेट्रोल-डीजल?...

Petrol Diesel Price: सस्ता होगा पेट्रोल-डीजल? कच्चे तेल में रिकॉर्ड गिरावट, जानिए कब तक घटेंगे पेट्रोल-डीजल के दाम

Petrol Diesel Price Down: अंतरराष्ट्रीय बाजार (International Market) में कच्चे तेल (Crude Oil) का भाव 10 महीने के न्यूनतम स्तर पर लुढ़क गया है।

इसके बाद सबकी नजर भारत में Petrol-Diesel के दाम पर लगी है कि आखिर इनमें कब कमी आएगी?

________________________
बिहार की सभी लेटेस्ट रोजगार समाचार और स्कॉलरशिप से अपडेटेड रहने के लिए इस ग्रुप में अभी जुड़े. (अगर आप टेलिग्राम नहीं चलाते हैं तो फेसबुक को फॉलो करें, ताकि बिहार की कोई नौकरी नोटिफिकेशन न छूटे)

Whatsapp GroupJoin Now
Follow FacebookJoin & Follow
Telegram GroupJoin Now

इस कमी की संभावना को जानने के लिए हमें कुछ आंकड़ों को समझना होगा और सबसे पहले तो बात करते हैं कच्चे तेल (Crude Oil) की कीमतों के बारे में

जिनमें सबसे प्रमुख ब्रेंट क्रूड (Brent Crude) का भाव सोमवार को 2.6 Dollar/Barrel यानी 3 फीसदी से ज्यादा कम होकर 80.97 Dollar Per Barrel पर पहुंच गया।

ये इस साल की शुरुआत में 4 जनवरी के बाद का सबसे कम भाव है. ब्रेंट क्रूड (Brent Crude Oil) की कीमतों में आई इस गिरावट से भारतीय बास्केट (Indian Basket)

यानी जिस औसत दाम पर भारतीय कंपनियां कच्चा तेल (Crude Oil) खरीदती हैं, उसकी लागत मार्च के औसत 112.8 Dollar Per Barrel से घटकर 82 Dollar Per Barrel हो गई है।

क्या तेल कंपनियां घटाएंगी दाम?

तेल मार्केटिंग कंपनियां दाम घटाने (Price Cut) का फैसला करने से पहले इस साल कच्चे तेल (Crude Oil) की ऊंची कीमतों से हुए नुकसान की भरपाई करने को तरजीह दे सकती है।

हालिया आंकड़ों के मुताबिक जुलाई-सितंबर तिमाही में IOCL, HPCL और BPCL को Petrol-Diesel की बिक्री पर 2748.66 करोड़ का नुकसान हुआ है।

अगर सरकार (Gov.) ने बीते 2 साल में LPG की बिक्री पर हुए घाटे की भरपाई ना की होती तो ये नुकसान काफी ज्यादा हो सकता था।

सरकार ने तेल मार्केटिंग कंपनियों को 22 हज़ार करोड़ की एकमुश्त रकम चुकाकर LPG की बिक्री पर हुए घाटे की भरपाई की थी।

इसके बावजूद इन कंपनियों के पूरे नुकसान की भरपाई (Damage Compensation) ना होने से तेल कंपनियों के लिए दाम घटाना (Price Cut) आसान नहीं है।

कब तक घटेंगे पेट्रोल-डीजल के दाम?

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कमी का सटीक अंदाजा तो लगा पाना मुश्किल है लेकिन इतना जरूर है कि अगर अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में

तेल मार्केटिंग कंपनियां (Oil Marketing Companies) अपने नुकसान को पूरा कर लेती हैं और

जनवरी-मार्च तिमाही में भी कच्चे तेल (Crude Oil) की कीमतों में कमी रहती है तो फिर मुमकिन है

ये अपनी गुंजाइश के कुछ हिस्से को ग्राहकों तक पहुंचा सकती है, लेकिन यहां पर भी ये देखना होगा कि

अगर दाम फिर से बढ़ने लगे तब तेल कंपनियां ऐसा कोई फैसला करती हैं या नही।

वैसे भी मॉर्गन स्टेनली (Morgan Stanley) के एनालिस्ट्स का अनुमान है कि 2023 में कच्चे तेल (Crude Oil) की कीमतें 110 Dollar Per Barrel के स्तर को पार कर सकती है।

यानी मौजूदा स्तर से 33 फीसदी की तेजी इनमें आ सकती है. हालांकि ये लेवल 2022 के 127 Dollar Per Barrel के उच्चतम स्तर से कम रहेगा।

________________________
सभी लेटेस्ट Sarkari Naukri अपडेट व अन्य News जानने के लिए इस व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े.

Whatsapp GroupJoin Now

Related Article

Most Popular

Sarkari Naukri

Astrology

Sarkari Yojana

Life Style

error: Copyright © 2022 All Rights Reserved.