HomeBiharRaksha Bandhan 2022: जाने कितनी देर...

Raksha Bandhan 2022: जाने कितनी देर की हैं राखी बांधने की शुभ मुहूर्त! 11 या 12 अगस्त, कब मनेगी रक्षाबंधन?

Raksha Bandhan शुभ मुहूर्त : साल 2022 में रक्षाबंधन को से दिन मनाया जाएगा ? इसे लेकर खासी मतभिन्नता सामने आ रही है। चलिए जानते हैं भाई को राखी बांधने के लिए कौन सा समय सबसे ज्यादा शुभ होगा।

Raksha Bandhan 2022 शुभ मुहूर्त तथा भद्रा काल :

सावन महीने की पूर्णिमा को रक्षाबंधन का पर्व मनाया जाता है। इस साल पूर्णिमा तिथि की शुरुआत और समाप्ति के समय रहने के कारण असमंजस की स्थिति पैदा हो चुकी है कि रक्षाबंधन 11 August को मनाएं या फिर 12 अगस्त 2022 को।

________________________
बिहार की सभी लेटेस्ट रोजगार समाचार और स्कॉलरशिप से अपडेटेड रहने के लिए इस ग्रुप में अभी जुड़े. (अगर आप टेलिग्राम नहीं चलाते हैं तो फेसबुक को फॉलो करें, ताकि बिहार की कोई नौकरी नोटिफिकेशन न छूटे)

Whatsapp GroupJoin Now
Follow FacebookJoin & Follow
Telegram GroupJoin Now

दरअसल बता दे कि इस बार की पूर्णिमा तिथि 11 August की तिथि से ही शुरू हो जाएगी लेकिन इसी दौरान बेहद अशुभ माना गय भद्रा काल भी शामिल रहेगा। इस कारण इस दिन को राखी बांधना शुभ नहीं माना जा रहा है।

भद्रा काल में शुरू होगी पूर्णिमा तिथि

11 August 2022, गुरुवार को पूर्णिमा तिथि सुबह के 10:38 AM बजे से शुरू हो जाएगी और अगले ही दिन 12 August की सुबह 07:05 PM बजे तक रहेगी।

लेकिन पूर्णिमा तिथि के साथ ही इस बार भद्रा काल भी शुरू हो जाएगा और यह काल 11 August की रात 08:51 Mints तक रहेगा।

ऐसे में जो बहनें 11 August की रात 08:51 PM बजे के बाद राखी बांधना चाहें वे रखी आवश्य ही बांध सकती हैं। वहीं कई लोग इस कारण 12 August को रक्षाबंधन मना रहे हैं।

12 August की सुबह 05:52 AM बजे सूर्योदय होने के साथ ही रक्षाबंधन के लिए बहुत शुभ मुहूर्त शुरू हो जाएगा और यह करीब 3 घंटे तक रहेगा।

ऐसे में अब उदया तिथि और शुभ मुहूर्त को देखते हुए 12 August की सुबह ही बहनें अपने भाई को राखी बांधें तो बहुत ही शुभ रहेगा। 12 August, शुक्रवार को यह धाता और सौभाग्य योग भी बन रहे हैं।

लिहाजा ऐसे ही शुभ योग में मनाया गया भाई – बहन के पवित्र रिश्ते का पर्व दोनों के जीवन में सुख-समृद्धि और लंबी आयु लाएगा। इसलिए भद्रा काल में नहीं बांधे राखी।

भद्रा काल में राखी बांधना बहुत ज्यादा ही अशुभ माना जाता है।इतना ही नहीं कोई भी शुभ काम कभी भी भद्रा काल में बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए।

ऐसा करने से बनते हए काम भी बिगड़ जाते हैं। दरअसल यह मान्यता है कि लंकापति रावण की बहन शुपनेखा ने भी उसे भद्रा काल में राखी बांधी थी और बाद में उसका सर्वनाश हो गया था। लिहाजा भद्रा काल में राखी बांधने से बचना अति आवश्यक।

Related Article

Most Popular

Sarkari Naukri

Astrology

Sarkari Yojana

Life Style

error: Copyright © 2022 All Rights Reserved.