HomeNewsSuccess Story: एमबीए ग्रेजुएट ने सरकार...

Success Story: एमबीए ग्रेजुएट ने सरकार की मदद से शुरू किया ये बिजनेस, हर महीने हो रही है शानदार कमाई, जानिए डीटेल्स

Success Story: अगर आप अपना कोई Small Business शुरू करना चाहते हैं, तो आपको इसमें सरकार की मदद मिल जाएगी.

मोदी सरकार की MUDRA Scheme के तहत बिजनेस शुरू करने के लिए 10 लाख रुपये तक का लोन आपको आसानी से मिल जाएगा।

________________________
बिहार की सभी लेटेस्ट रोजगार समाचार और स्कॉलरशिप से अपडेटेड रहने के लिए इस ग्रुप में अभी जुड़े. (अगर आप टेलिग्राम नहीं चलाते हैं तो फेसबुक को फॉलो करें, ताकि बिहार की कोई नौकरी नोटिफिकेशन न छूटे)

Whatsapp GroupJoin Now
Follow FacebookJoin & Follow
Telegram GroupJoin Now

State Bank Of India Mudra Scheme के अंतर्गत स्माल बिजनेस की Working Capital और Term Loan की फंडिंग कर रहा है,

इस स्कीम का फायदा उठाकर काफी लोग हर महीने अच्छी इनकम कर रहे है।

MBA ग्रेजुएट कर रही मंथली 20 हजार नेट इनकम:

मुद्रा लोन के जरिए सफल बिजनेस करने वालों की Success Stories एसबीआई ने शेयर की है, SBI की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, विजयवाड़ा की गोपू सिरीशा ने

State Bank Of India की SME Center Branch से 5 लाख रुपये का टर्म लोन लेकर Paper Cups Manufacturing की यूनिट लगाई।

सिरीशा MBA Graduate हैं लेकिन फैमिली में दिक्कतों के चलते House Wife बनी रही, उन्होंने अपनी फैमिली को सपोर्ट करने के लिए अपना खुद का बिजनेस शुरू करने का फैसला किया।

सिरीशा ने बैंक से 5 लाख रुपये का Term Loan और 1.50 लाख रुपये की Cash Credit Limit लेकर पेपर कप बनाने की यूनिट को लगाया,

बिजनेस सफल हुआ उसके बाद में उनके पति ने भी अपनी Private Job को छोड़कर उनके बिजनेस से जुड़ गए।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की वेबसाइट पर उपलब्ध डिटेल के मुताबिक, सिरीशा का 2017 18 में अनुमानित Turnover 33.12 लाख रुपये था,

सभी तरह की देनदारी और खर्चे काटकर हर महीने Net Profit 20 हजार रुपये के करीब है.

बिना कोलेटरल सिक्युरिटी मिलता है फंड:

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना (PMMY) को 8 अप्रैल 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉन्च किया और इसका मकसद Non-Corporate, Non-Form Small / Micro Enterprises के लिए 10 लाख रुपये तक का आसान लोन उपलब्ध करवाना है।

मुद्रा लोन commercial bank, RRBs, small finance bank, cooperative bank, MFI और NBFC से लिया जा सकता है.

इसमें तीन तरह के loan product ‘शिशु’, ‘किशोर’ और ‘तरुण’ है।

शिशु कैटेगरी में 50,000 रुपये तक, किशोर में 50,001 रुपये से 5 लाख रुपये तक और तरुण कैटैगरी में 5,00,001 से 10 लाख रुपये तक लोन मिलता है।

State Bank of India के मुताबिक, Working Capital / Term Loan को 3-5 साल में करना होता है, इसमें 6 महीने तक का Moratorium Period भी शामिल है।

MSE Unit के लिए शिशु और किशोर लोन पर Processing Fee / Upfront Fee नहीं देनी पड़ती है

वहीं, तरुण कैटेगरी के लोन के लिए Processing Fee लोन अमाउंट का 0.50% (Effective Tax) देनी होती है।

Related Article

Most Popular

Sarkari Naukri

Astrology

Sarkari Yojana

Life Style

error: Copyright © 2022 All Rights Reserved.