HomeNewsChhath Puja 2022: छठ पूजा की...

Chhath Puja 2022: छठ पूजा की तैयारियों के साथ ध्यान रखें इससे जुड़ी ये महत्वपूर्ण नियम

Chhath Puja 2022: कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि पर मनाए जाने वाले महा छठ पर्व की तैयारियां जोरों शुरू हो ही चुकि हैं.

चार दिवसीय इस पर्व में व्रती महिलाएं अपने Family के कल्याण एवं सुख शान्ति के लिए 36 घंटे का कठिन निर्जला उपवास रखती हैं.

________________________
बिहार की सभी लेटेस्ट रोजगार समाचार और स्कॉलरशिप से अपडेटेड रहने के लिए इस ग्रुप में अभी जुड़े. (अगर आप टेलिग्राम नहीं चलाते हैं तो फेसबुक को फॉलो करें, ताकि बिहार की कोई नौकरी नोटिफिकेशन न छूटे)

Whatsapp GroupJoin Now
Follow FacebookJoin & Follow
Telegram GroupJoin Now

आपको बता दें कि Chhath Festival की शुरुआत शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि के दिन नहाय खाय के साथ हो जाती है. इन चार दिनों में व्रती महिलाएं कई तरह के नियमों का पालन करती हैं.

इस पर्व को इसलिए भी सबसे खास माना जाता है क्योंकि इस दिन अस्त होते सूर्य की पूजा की जाती है। आइए जानते हैं छठ पूजा की महत्वपूर्ण तिथियां और इससे जुड़े कुछ बेहद जरूरी नियम को.

Chhath Puja 2022 Calender

नहाय खाय- पहला दिन: 28 October 2022, Friday

खरना– दूसरा दिन: 29 October 2022, Saturday

अस्त होते सूर्य की पूजा– तीसरा दिन: 30 October 2022, Sunday

उगते सूर्य की पूजा– अंतिम व चौथा दिन: 31 October 2022, Monday

यह हैं छठ पूजा के कुछ महत्वपूर्ण नियम

नहाय खाय 

छठ महापर्व के पहले दिन व्रती महिलाएं (Fasting Women) नहाय-खाय की परम्परा को निभाती हैं.

सबसे पहले घर की अच्छे से साफ-सफाई की जाती है और सात्विक भोजन भी साथ मे पकाया जाता है.

इस दिन घर में दाल-भात और लौकी की सब्जी ही बनती है, जिसके साथ सेंधा नमक का ही प्रयोग किया जाता है.

खरना 

छठ पर्व के दूसरे दिन खरना पूजन किया जाता है। इस दिन भगवान सूर्य देव की संध्या के समय पूजा की जाती है.

वहीं खरना के दौरान ही खीर और बिना नमक से पूड़ी आदि को प्रसाद के रूप में भोग लगाया जाता है,

और इसके साथ ही बाद ग्रहण किया जाता है। खरना के बाद ही निर्जला उपवास प्रारम्भ हो जाता है.

अस्त होते सूर्य की पूजा

कार्तिक शुक्ल पक्ष के षष्ठी तिथि के दिन व्रती महिलाएं उपवास रखती हैं और संध्या काल में अस्त हो रहे सूर्य को अर्घ्य देती हैं.

इस दिन बांस से बने टोकरी जिसे हम सब आम भाषा में सूप कहते है, में फल, ठेकुआ, ईख, नारियल आदि रखकर इस पूजा को पूर्ण करती हैं.

उगते हुए सूर्य की पूजा- 

छठ पर्व के अंतिम दिन प्रात काल में उगते हुए सूर्य की पूजा की जाती है, इनके साथ ही उन्हें अर्घ्य दिया जाता है.

इस दिन दिन व्रत सम्पन्न हो जाते हैं और व्रत का पारण विधिवत तरीके से किया जाता है.

सूर्यास्त और सूर्योदय का समय (Chhath Puja 2022 Arghya Samay)

हिन्दू पंचांग के अनुसार ही कार्तिक शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि यानि 30 October को सूर्यास्‍त शाम 5 बजकर 37 मिनट पर होगा,

और सूर्योदय अगले दिन 31 30 October को सुबह 6 बजकर 31 मिनट पर होगा.

________________________
सभी लेटेस्ट Sarkari Naukri अपडेट व अन्य News जानने के लिए इस व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े.

Whatsapp GroupJoin Now

Related Article

Most Popular

Sarkari Naukri

Astrology

Sarkari Yojana

Life Style

error: Copyright © 2022 All Rights Reserved.